business / finance

यूरो अपने 20 सालो के निचले स्तर पर पहुंचा,,

यूरो पिछले 20 साल में सबसे निचले स्तर पर पहुंचा, पौंड की हालत भी खराब, व्यापार की भाषा में समझें

Published By- Komal Sen

यूरो पाउंड मूल्य: पूरी दुनिया में मंदी की संभावना है। इसका असर कुछ देशों में भी देखने को मिल रहा है। महंगाई बढ़ने लगी है। रोजगार में कमी आ रही है। उन देशों की करेंसी कमजोर होने लगी है। इस समय दुनिया की सबसे मजबूत मुद्रा कहे जाने वाले पाउंड और यूरो अपने बुरे दौर से गुजर रहे हैं। ब्रिटेन की करेंसी लगातार गिर रही है। अमेरिकी डॉलर (यूएसडी) के मुकाबले पाउंड कमजोर हो रहा है। यूरो (यूरो) के मामले में भी ऐसा ही है।

आज से ठीक एक महीने पहले यानी 10 अगस्त को एक पाउंड की कीमत 1.22 डॉलर हुआ करती थी, जो 10 सितंबर को गिरकर 1.16 डॉलर प्रति पाउंड हो गई है। यूरो भी एक महीने में 1.03 डॉलर प्रति यूरो से कमजोर हो गया है। $ 1.02 आज। इससे भारत को फायदा हो रहा है और पाउंड और यूरो के मुकाबले भारतीय रुपया मजबूत हो रहा है। इसके पीछे एक कारण यह भी है कि इस समय भारत की स्थिति बेहतर है और जानकारों का कहना है कि भारत में मंदी की कोई संभावना नहीं है।

पाउंड के मुकाबले रुपया हुआ मजबूत

पिछले महीने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि भारतीय रुपया 2022 में ब्रिटिश पाउंड के मुकाबले मजबूत हुआ है। इसमें और सुधार होगा। वर्तमान में 1 पाउंड की कीमत 92.41 रुपये है, जो एक महीने पहले 5 अगस्त को 96.59 रुपये प्रति पाउंड थी। एक महीने में पाउंड के मुकाबले भारतीय रुपया 4.18 रुपये मजबूत हुआ है। एक महीने पहले एक यूरो की कीमत 81.46 रुपये हुआ करती थी, जो आज घटकर 80.87 रुपये प्रति यूरो हो गई है।

यूरो अपने सबसे खराब स्थिति में कैसे पहुंचा?

यूरोप और लगभग पूरे विश्व में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण यूरोप के कई देश मुद्रास्फीति का सामना कर रहे हैं। विशेष रूप से ऊर्जा क्षेत्र में, रूस द्वारा नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन को पूरी तरह से बंद करने के हालिया फैसले ने स्थिति को और खराब कर दिया है। आदेश के बाद से यूरोप में ऊर्जा स्रोतों जैसे गैस और तेल की लागत में वृद्धि हुई है, जो यूरो के मूल्य को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यूरोपीय संघ की सांख्यिकी एजेंसी द्वारा जारी किए जाने वाले आंकड़ों के अनुसार, यूरोज़ोन की वार्षिक मुद्रास्फीति दर जुलाई में बढ़कर 8.9% हो जाएगी, जो जून में 8.6% थी। आपको बता दें, मौजूदा समय में प्रति यूरो डॉलर की कीमत पिछले 20 साल का सबसे निचला स्तर है। अगर यह गिरावट जारी रही तो जल्द ही एक यूरो की कीमत डॉलर के बराबर हो जाएगी।

15 जुलाई 2002 को यूरो डॉलर के बराबर था

1 जनवरी 1999 को लॉन्च होने के तुरंत बाद यूरोपीय मुद्रा 1.18 डॉलर प्रति यूरो के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई, लेकिन लंबे समय तक नहीं चली। फरवरी 2000 में यूरो गिरकर $1 से कम हो गया, और अक्टूबर तक 82.30 सेंट के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया था। फिर धीरे-धीरे स्थिति में सुधार हुआ और 15 जुलाई 2002 को यूरो एक डॉलर के बराबर पहुंच गया। उसके बाद से यूरो में उतनी गिरावट नहीं देखी गई जितनी आज देखी जा रही है।

पाउंड इतना खराब क्यों है?

ब्रिटेन की राजनीति से लेकर ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था तक इस समय अनिश्चितता का माहौल है। हाल ही में चुनाव हुए हैं। नया पीएम बनेगा। कहा जाता है कि अगर आपको बाजार में मजबूत होना है तो अनिश्चितता को दूर करना होगा। दूसरी ओर ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर निकलने की भारी कीमत चुकानी पड़ रही है। इसका खामियाजा ब्रिटिश व्यापारियों को भुगतना पड़ रहा है। उन्हें पहले से ज्यादा टैक्स देना होगा। इससे पहले, जब ब्रिटेन यूरोपीय संघ का हिस्सा था, तब यूरोपीय संघ में शामिल किसी भी देश के साथ व्यापार करने के लिए कोई कर नहीं देना पड़ता था। इससे उनकी अर्थव्यवस्था को काफी फायदा होता था, जो अब बंद हो गया है। महंगाई भी इस समय अपने चरम पर है। लोगों को रोजगार कम मिल रहा है। यह समस्या केवल ब्रिटेन में ही नहीं बल्कि उसके अन्य पड़ोसी देशों में भी है।

ब्रिटेन की महंगाई 40 साल के उच्चतम स्तर पर

जुलाई में ब्रिटेन की मुद्रास्फीति दर बढ़कर 40 साल के नए उच्चतम 10.1 प्रतिशत पर पहुंच गई। वास्तव में, मुद्रास्फीति में यह उछाल खाद्य कीमतों में वृद्धि और ऊर्जा की बढ़ती कीमतों के कारण है। ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टिक्स (ONS) ने बुधवार को कहा कि उपभोक्ता कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति जून में 9.4 प्रतिशत से बढ़कर दहाई अंक में पहुंच गई है। यह आंकड़ा विश्लेषकों के 9.8 प्रतिशत के पूर्वानुमान से अधिक है।

डॉलर मजबूत क्यों हो रहा है?

डॉलर के लगातार मजबूत होने से दुनिया भर की मुद्राओं का असर दिखना शुरू हो गया है। रूबल से पाउंड और यूरो की कीमतों में भी बदलाव देखने को मिल रहा है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है अमेरिका का अपने नीतिगत फैसलों में लगातार उलटफेर। हाल ही में, फेड ने भी कर की दर में 0.75 आधार अंकों की वृद्धि की। फेड अमेरिका का केंद्रीय बैंक है। टैक्स की दर बढ़ाकर अमेरिका ने दुनिया भर के निवेशकों को आकर्षित करना शुरू कर दिया, क्योंकि अगर आप अमेरिका में पैसा लगाते हैं, तो आपको पहले से ज्यादा रिटर्न मिलेगा। दूसरी सबसे बड़ी बात यह होगी कि निवेशक को करेंसी को डॉलर में बदलने की भी जरूरत नहीं होगी। जब किसी देश में निवेश बढ़ता है तो उसकी अर्थव्यवस्था मजबूत होती है और उसका असर उस देश की मुद्रा पर भी देखने को मिलता है। यही वजह है कि डॉलर में मजबूती जारी है।

अमेरिकी डॉलर एक वैश्विक मुद्रा है। दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों के पास मौजूद विदेशी मुद्रा भंडार में अकेले अमेरिकी डॉलर की हिस्सेदारी 64% है। दुनिया भर के अधिकांश देश डॉलर में व्यापार करते हैं। यह सब अमेरिकी डॉलर को मजबूत बनाता है। इस समय अमेरिका दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश है। उनकी कुल संपत्ति 25,350 अरब डॉलर है।

Buland Chhattisgarh

Show More

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker